2019 के लिए बुआ-भतीजे ने 'मिलाया' हाथ; 25 साल पहले मायावती के दुश्मन नंबर 1 बन गए थे मुलायम

नईदिल्ली:मोदीकेखिलाफ2019कासबसेअहमऔरबड़ागठबंधनबननेकेअपनेआखिरीपड़ावपरहै,बल्किसूत्रोंकेमुताबितगठबंधनकाफॉर्मूलातयहोगयालेकिनइसगठबंधनमेंराहुलगांधीकीकांग्रेसकेलिएकोईजगहनहींछोड़ीगईहै.मायावतीऔरअखिलेशनेनकेवलगठबंधनपरसहमतिबनाईहैबल्किसीटोंकाभीबंटवाराकरदियाहै.सीटबंटवारेकाफॉर्मूलायेहैकियूपीकी80लोकसभासीटोंमेंसेबीएसपी38पर,समाजवादीपार्टी37परऔरअजितसिंहकीपार्टीआरएलडी3सीटोंपरलड़ेगी.कांग्रेसकेलिएइतनीरियायतहुईहैकिरायबरेलीमेंसोनियागांधीकेखिलाफऔरअमेठीमेंराहुलगांधीकेखिलाफकोईउम्मीदवारनहींउताराजाएगा.कांग्रेसचाहेतोइसेगठबंधनमेंअपनाहिस्सामानसकतीहै.

भलेहीरामगोपालयादवनेऐसेसीटबंटवारेकेफॉर्मूलेसेकैमरेपरइनकारकरदियाहोलेकिनक्रिकेटकीतरहराजनीतिभीसंभावनाओंकाखेलहै.राजनीतिकेइसखेलमेंकौनसामोहराकबकिसखानेमेंबैठेगाबड़ेसेबड़ासियासीपंडितभीनहींबतासकता.धुरविरोधीकबदोस्तहोजाएंऔरकबदोस्तीअदावतमेंतब्दीलहोजाएकिसीकोनहींमालूम.उत्तरप्रदेशमेंभीकुछऐसाहीहोतानजरआरहाहै.कभीएकदूसरेकेधुरविरोधीरहेएसपीऔरबीएसपीने2019केबड़ेसियासीसमरकेलिएहाथमिलालियाहै.इसेप्रधानमंत्रीमोदीऔरकांग्रेसअध्यक्षराहुलगांधीदोनोंकेलिएझटकामानाजारहाहै.

उत्तरप्रदेशकेराजनीतिकइतिहासकोजिनलोगोंनेकरीबसेदेखाहैवोजानतेहैंकिएसपी-बीएसपीकेबीचकीयेनजदीकियांनईनहींहैं.एकवक्तथाजबनासिर्फदोनोंपार्टियोंनेसाथमेंचुनावलड़ाबल्किसरकारबनाईथी.लेकिनफिरआखिरऐसाक्याहुआकिदोनोंकेदुश्मनीइतनीबढ़गईकिसाथआनेमें25साललगगए?

एकनजरयूपी-बीएसपीकेसियासीइतिहासपर

दरअसलइसकहानीकीशुरुआतहुईकरीब28सालपहले.एसपीके'सबसेबड़े'नेतामुलायमसिंहयादवसाल1990मेंउत्तरप्रदेशकेमुख्यमंत्रीथे.इसीदौरान30अक्टूबरऔरदोनवम्बर1990कोअयोध्यामेंहुएगोलीकांडकेबादमुलायमसिंहयादवकीकाफीकिरकिरीहुईथी.

इसकिरकिरीकाखामियाजामुलायमसिंहकोअगलेचुनावमेंउठानापड़ा.1991मेंहुएविधानसभाकेचुनावमेंमुलायमसिंहयादवकोकरारीशिकस्तमिलीथी.भाजपानेराज्यमेंपहलीबारसरकारबनाईथी.कल्याणसिंहकोमुख्यमंत्रीबनायागयाथा.

'हिंदुत्वकेपोस्टरब्वॉय'रहेकल्याणसिंहभीकुर्सीपरज्यादादिनतकनहींटिकपाए.छहदिसम्बर1992कोकारसेवकोंनेविवादितढांचाढहादिया.कल्याणसिंहनेसुप्रीमकोर्टमेंहलफनामादियाथाकिविवादितमस्जिदकीहिफातकीजाएगी,तबअसफलरहनेकेबादकल्याणसिंहकीसरकारबर्खास्तकरदीगईथी.

कल्याणसिंहकेजानेकेबादएकसालतकराष्ट्रपतिशासनरहा.1993मेंबीएसपीकेतत्कालीनअध्यक्षकांशीरामऔरमुलायमसिंहयादवकीपार्टीएसपीनेमिलकरचुनावलड़ा.1993मेंएसपी-बीएसपीगठबंधननेसरकारबनाईऔरमुलायमसिंहयादवमुख्यमंत्रीचुनेगए.बीएसपीको1991में12सीटोंपरजीतमिलीथीजो1993मेंबढ़कर67होगईथी.एसपीने109सीटोंपरजीतहासिलकीजबकिबीजेपी177सीटोंपरजीती.

करीबडेढ़सालतकएसपी-बीएसपीगठबंधनकीसरकारचलीलेकिनइसकेबादजोहुआइतिहासबनगयाहै.दोजून1995कोलखनऊमेंस्टेट'गेस्टहाऊसकांड'होगया.बीएसपीअध्यक्षमायावतीकेसाथएसपीकार्यकर्ताओंनेदुर्व्यवहारकियाथा.इसकेबादएसपी-बीएसपीकागठबंधनटूटगया.1996मेंभाजपाकेसहयोगसेमायावतीपहलीबारमुख्यमंत्रीबनीं,तभीसेएसपीऔरबीएसपीकेसम्बंधोंमेंखटासआगईथी.

2014केलोकसभाऔर2017केविधानसभाचुनावमेंकरारीहारकेबादएसपी-बीएसपीसाथआनेलगे.अखिलेशयादवसमाजवादीपार्टीकेमुखियाबनेऔरपार्टीमेंनेतृत्वबदलगया.अखिलेखनेआगेबढ़करगठबंधनकाइरादाजाहिरकिया.अखिलेशयादवमायावतीकोबुआकहतेहैं.एकशामअखिलेशयादवअचानकमायावतीकेघरपहुंचे,इसकेबादहरकिसीकेमनमेंपलरहेशिकवेदूरहोगए.

मार्च2014मेंफूलपुरऔरगोरखपुरमेंहुएलोकसभाकेउपचुनावमेंबीएसपीनेप्रत्याशीनउतारकरएसपीकेप्रत्याशीकासमर्थनकिया.दोनोंचुनावोंमेंएसपीकोजीतमिली.फिरकैरानालोकसभाकेउपचुनावमेंएसपी-बीएसपीनेंआरएलडीप्रत्याशीकासमर्थनकिया,नूरपुरविधानसभाकेउपचुनावमेंभीएसपीकोसभीपार्टियोंनेंसमर्थनदिया,आरएलडीऔरएसपीकीचुनावोंमेंजीतहुई.

25सालबादफिरएकबारसियासतउसीमोड़परआकरखड़ीहोगईहै,जबएसपीऔरबीएसपीकेएकसाथचुनावलड़नेकीखबरेंहैं.इसबीचतीनराज्योंमध्यप्रदेश,राजस्थानऔरछत्तीसगढ़कीजीतसेगदगदराहुलगांधीकोइसगठबंधनमें'किनारे'लगादियागयाहै.सियासीजानकारोंकाकहनाहैकिअगरयेगठबंधनबनताहैको2014में71सीटजीतनेवालीबीजेपीकेलिएखतराहोसकताहै.

य़हांदेखेंवीडियो